Mahashivratri Vrat Katha 2024: इस लेख में पढ़े महाशिवरात्रि व्रत कथा और जाने क्यों जरुरी है महा शिवरात्रि व्रत करना

maha shivratri katha in hindi

Mahashivratri vrat katha:महाशिवरात्रि एक महत्वपूर्ण हिंदू त्योहार है जो भगवान शिव की पूजा करता है और इसका अत्यधिक सांस्कृतिक और आध्यात्मिक महत्व है। उपभोक्ता को महाशिवरात्रि के दिन भगवान शंकर की पूजा आराधना की जाती है ताकि उनका विशेष आशीर्वाद प्राप्त हो सके विशेष तौर पर कुंवारी लड़कियां महाशिवरात्रि का व्रत सच्चे मन विधि विधान के साथ करती है ताकि उन्हें योग्य पति की प्राप्ति हो क्योंकि यह धार्मिक शास्त्रों में इस बात का उल्लेख है की माता पार्वती ने भगवान शंकर को प्राप्त करने के लिए कठोर तपस्या की थी और उनकी पूजा तभी जाकर भगवान शंकर उन्हें पति के रूप में प्राप्त हुए थे। तभी से इस प्रकार की मान्यता है कि कोई भी कुंवारी लड़की अगर भगवान शंकर की पूजा करती है तो उसे योग्य वर प्राप्त होगा। महाशिवरात्रि क्यों मनाया जाता है उससे संबंधित कई प्रकार के महाशिवरात्रि व्रत कथा प्रचलित है जिनके बारे में जानना हम सभी के लिए आवश्यक है इसलिए आज के लेख में Mahashivratri Vrat Katha से जुड़ी जानकारी के बारे में आपको विस्तार पूर्वक जानकारी प्रदान करेंगे आर्टिकल को ध्यानपूर्वक पढ़िए आईए जानते हैं:-

Mahashivratri Vrat Katha – Overview 2024 

आर्टिकल का प्रकारमहत्वपूर्ण दिन
आर्टिकल का नामMahashivratri vrat katha 
साल कौन सा है2024
कब मनाया जाएगा पर्व 8 march 
कहां मनाया जाएगापूरे भारतवर्ष में

यह भी पढ़ें: महाशिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएं

क्या है महाशिवरात्रि (what is Maha Shivaratri )

महा शिवरात्रि भगवान शिव का उत्सव है और इसका शाब्दिक अनुवाद “शिव की महान रात” है। पूजा सेवाएँ पूरे दिन होती हैं हालाँकि मुख्य पूजाएँ या तो शाम को एक बार होती हैं या पूरी रात में चार बार होती हैं। यह त्यौहार भक्तों के लिए कई महत्वपूर्ण घटनाओं का प्रतीक है। शिवरात्रि भगवान शिव की उनकी पत्नी पार्वती से विवाह की रात की याद दिलाती है। इस प्रकार यह विशेष रूप से विवाहित जोड़ों द्वारा मनाया जाने वाला त्योहार है। इस रात के दौरान नृत्य के देवता नटराज के रूप में भगवान शिव ने सबसे पहले आनंद का नृत्य – “आनंदतांडव” प्रस्तुत किया। 

क्यों मनाई जाती है महाशिवरात्रि (Why Maha Shivratri is Celebrated )

महाशिवरात्रि कई कारणों से मनाई जाती है, जिनमें से प्रत्येक का अपना महत्व और प्रतीकवाद है। इसका एक प्राथमिक कारण देवी पार्वती के साथ भगवान शिव के विवाह का जश्न मनाना है। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, शिव और पार्वती  मिलन इसी दिन हुआ था

महाशिवरात्रि मनाने का एक अन्य कारण भगवान शिव के दिव्य गुणों का सम्मान करना है, जिन्हें बुराई का विनाशक और परिवर्तन का अग्रदूत माना जाता है। भक्तों का मानना ​​है कि भक्ति और तपस्या के साथ महाशिवरात्रि का पालन करने से बाधाओं को दूर करने, मन की अशुद्धियों को साफ करने और आध्यात्मिक उत्थान प्राप्त करने में मदद मिल सकती है। भारत में, महाशिवरात्रि को देश के विभिन्न हिस्सों में विभिन्न रीति-रिवाजों और अनुष्ठानों के साथ अत्यधिक उत्साह और उमंग के साथ मनाया जाता है। सबसे आम प्रथाओं में से एक है दिन और रात भर उपवास रखना, भोजन और पानी से परहेज करना। भक्तों का मानना ​​है कि महाशिवरात्रि पर उपवास करने से शरीर और मन शुद्ध होता है, जिससे उन्हें परमात्मा के साथ और अधिक गहराई से जुड़ने का मौका मिलता है।

महा शिवरात्रि के दिन क्या हुआ था (Mahashivratri Ke Din Kya Hua Tha)

महाशिवरात्रि के दिन भगवान शंकर और माता पार्वती का विवाह हुआ था।  जैसा कि आप लोग जानते हैं की  भगवान शंकर अपनी पत्नी सती से बहुत ज्यादा प्रेम करते थे परंतु सती के जाने के बाद भगवान शंकर बैरागी हो गया जिसके कारण सृष्टि का संचालन कर पाना संभव नहीं हो रहा था ऐसे में भगवान पर शंकर की पत्नी सती ने पार्वती के रूप में जन्म लिया और उन्होंने कठोर तपस्या कर भगवान शंकर को पति के रूप में प्राप्त किया इसके बाद भगवान शंकर और माता पार्वती का विवाह विधि विधान के साथ हुआ।  इसीलिए लड़कियां शिव के समान वर पाने के लिए  महाशिवरात्रि का व्रत करती हैं इसके अलावा धार्मिक शास्त्रों में इस बात का वर्णन है कि संसार के मंगल कामना के लिए लड़कियां शादीशुदा विधवा सभी स्त्रियां शिवरात्रि का व्रत करती हैं।

यह भी पढ़ें: महा शिवरात्रि, जाने इस दिन का महत्व, इतिहास

महाशिवरात्रि कब है? (Mahashivratri Kab Hai)

महाशिवरात्रि 2024 में 8 मार्च को पूरे भारतवर्ष में उमंग और उत्साह के साथ मनाया जाएगा इस दिन सभी लोग भगवान शंकर की पूजा आराधना करेंगे उसके उपरांत रात को जाकर भगवान शंकर के मंत्र का उच्चारण करेंगे ताकि महाशिवरात्रि की पूजा सफल हो सके महाशिवरात्रि के दिन विशेष तौर पर कुंवारी लड़कियां उपवास रखकर भगवान शंकर की पूजा आराधना सच्चे दिल से करती हैं ताकि उन्हें भगवान शंकर के जैसा योग्य पति मिल सके।

महाशिवरात्रि कब आती है (Mahashivratri Kab Aati Hai)

 महाशिवरात्रि प्रत्येक साल  एक बार आती है 2024 में महा शिवरात्रि शुक्रवार, 8 मार्च 2024 को शुरू होगा और इसका समापन 9 मार्च को होगा। महा शिवरात्रि रात्रि प्रहर पूजा समय: प्रथम प्रहर – 6:25pm – 9:28pm | 8 मार्च 2024 द्वितीय प्रहर – 9:28pm – 12:31am | 9 मार्च 2024तृतीय प्रहर – 12:31am – 3:34am | 9 मार्च 2024चतुर्थ प्रहर – 3:34am – 6:37am | 9 मार्च 2024 तक रहेगा उसे दौरान ही आपको भगवान शंकर की पूजा आराधना करनी होगी

Also Read: महाशिवरात्रि का शुभ मुहूर्त और शुभ संयोग?

शिवरात्रि  क्यों मनाई जाती है (Why is Shivratri Celebrated)

शिवरात्रि का क्यों मनाई जाती है उसका संबंध में कई प्रकार की कथाएं प्रचलित है उन कथाओं में पहली कथा के मुताबिक.शिवरात्रि उस दिन के रूप में मनाई जाती है जब भगवान ब्रह्मा – ब्रह्मांड के निर्माता और भगवान विष्णु – ब्रह्मांड के रक्षक, एक-दूसरे पर अपनी श्रेष्ठता को लेकर बहस में पड़ गए।

लड़ाई के दौरान, उन दोनों के बीच में एक चमकता हुआ “लिंगम” (शिव लिंग) दिखाई दिया, जो बादलों के बीच से आकाश में जा रहा था और ऐसा लग रहा था कि इसका कोई आरंभ या अंत नहीं है। 

इसकी भयावहता से आश्चर्यचकित होकर, ब्रह्मा और विष्णु ने एक-एक छोर खोजने के लिए प्रतिस्पर्धा करने का फैसला किया – जिसमें विजेता ने हारने वाले पर वर्चस्व स्थापित किया। ब्रह्मा ने आकाश में अपनी यात्रा शुरू की और विष्णु दुनिया की गहराई में उतरे।अपनी यात्रा में, ब्रह्मा को केतकी का फूल मिला जो लिंगम के शीर्ष पर रखा गया था, लेकिन नीचे तैर गया था। उसने फूल को सबूत के तौर पर इस्तेमाल करते हुए यह कहकर झूठ बोला कि वह शीर्ष पर पहुंच गया है।

 इससे शिव क्रोधित हो गए और उन्होंने उनके सामने अपना असली रूप प्रकट कर दिया। उन्होंने ब्रह्मा को दंडित किया और उन्हें श्राप दिया कि कोई भी उनसे कभी प्रार्थना नहीं करेगा। भगवान शिव ने उन्हें एहसास कराया कि उनसे भी शक्तिशाली एक तीसरी शक्ति है, शिव – ब्रह्मांड के निर्माता, संरक्षक और संहारक।चूँकि, यह पहली बार था जब शिव स्वयं लिंग के रूप में प्रकट हुए थे, इस दिन को अत्यंत शुभ माना जाता है और इसे महा शिवरात्रि के रूप में मनाया जाता है।

महाशिवरात्रि व्रत कब है (Mahashivratri Vrat Kab Hai)

वैदिक पंचांग के  अनुसार फागुन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि 8 मार्च रात्रि 9:97 से शुरू हो रही है और इसका समापन 9 मार्च शाम 6:17 में होगा हालांकि  महाशिवरात्रि व्रत पूजा प्रदोष काल में प्रारंभ की जाती है. इसी वजह से यह व्रत 08 मार्च 2024, शुक्रवार को रखा गया है और उसे दिन ही सभी लोग भगवान शंकर की पूजा आराधना करेंगे

शिवरात्रि व्रत कथा PDF Download (Shivratri Vrat Katha PDF Download)

शिवरात्रि व्रत कथा का पीडीएफ यदि आप प्राप्त करना चाहते हैं तो उसका लिंक हम आपको आर्टिकल में उपलब्ध करवाएंगे जिससे आप अपने मोबाइल में डाउनलोड कर सकते हैं ताकि आप भी शिवरात्रि का व्रत विधि विधान के साथ पूरा कर भगवान शंकर का आशीर्वाद प्राप्त कर पाए 

महाशिवरात्रि की कथा (Maha Shivratri Katha in Hindi)

कथा ( व्रत कथा ) इस प्रकार है.

एक बार की बात है, इक्ष्वाकु वंश के राजा चित्रभानु, जो पूरे जम्बूद्वीप पर शासन करते थे, अपनी पत्नी के साथ व्रत रख रहे थे, वह दिन था महा शिवरात्रि का।

ऋषि अष्टावक्र राजा के दरबार में भ्रमण पर आये।

ऋषि ने पूछा, “हे राजन! तुम आज व्रत क्यों रख रहे हो?”

राजा चित्रभानु ने इसका कारण बताया। उसे अपने पूर्व जन्म की घटनाओं को याद रखने का वरदान प्राप्त था।

राजा ने ऋषि से कहा: “मैं पिछले जन्म में वाराणसी में एक शिकारी था। मेरा नाम सुस्वरा था. मेरी आजीविका पशु-पक्षियों को मारकर बेचना था। एक दिन मैं जानवरों की तलाश में जंगलों में घूम रहा था। रात के अँधेरे ने मुझे घेर लिया था। घर लौटने में असमर्थ, मैं आश्रय के लिए एक पेड़ पर चढ़ गया। वह बेल का पेड़ निकला। मैंने उस दिन एक हिरण का शिकार किया था लेकिन मेरे पास उसे घर ले जाने का समय नहीं था। मैंने उसका बंडल बनाकर पेड़ की एक शाखा से बाँध दिया। 

भूख-प्यास से व्याकुल होने के कारण मैं रात भर जागता रहा। जब मैंने अपनी गरीब पत्नी और बच्चों के बारे में सोचा जो भूख से मर रहे थे और उत्सुकता से मेरी वापसी का इंतजार कर रहे थे, तो मेरे बहुत आँसू बह निकले। उस रात समय बिताने के लिए मैं बेल के पत्ते तोड़ने और उन्हें जमीन पर गिराने में लग गया। “दिन चढ़ गया। मैं घर लौट आया और हिरण को बेच दिया। 

मैंने अपने और अपने परिवार के लिए कुछ खाना खरीदा। मैं अपना उपवास तोड़ने ही वाला था कि एक अजनबी मेरे पास आया और खाना माँगने लगा। मैंने पहले उसे खाना परोसा और फिर अपना खाना खाया |

“मृत्यु के समय, मैंने भगवान शिव के दो दूतों को देखा। उन्हें मेरी आत्मा को भगवान शिव के निवास तक ले जाने के लिए नीचे भेजा गया था। तब मुझे पहली बार पता चला कि मैंने शिवरात्रि की रात के दौरान भगवान शिव की अचेतन पूजा से कितना महान पुण्य अर्जित किया था।

 उन्होंने मुझे बताया कि पेड़ के नीचे एक लिंगम था। मेरे द्वारा गिराए गए पत्ते लिंगम पर गिर गए। मेरे आंसू जो मैंने अपने परिवार के लिए शुद्ध दुःख के कारण बहाए थे, लिंगम पर गिर गए और उसे धो दिया। और मैं ने सारा दिन और सारी रात उपवास किया। इस प्रकार मैंने अनजाने में भगवान की पूजा की। “मैं भगवान के निवास में रहा और लंबे समय तक दिव्य आनंद का आनंद लिया। अब मेरा चित्रभानु के रूप में पुनर्जन्म हुआ है।”

महाशिवरात्रि की कथा हिंदी में (Maha Shivratri Vrat Katha in Hindi)

शिव पुराण में महाशिवरात्रि की कथा का वर्णन किया गया है. प्राचीन काल में चित्रभानु नाम का एक शिकारी रहता था. वे अपने परिवार को पालने  के लिए जानवरों की हत्या करता था. उसने एक साहूकार से कर्ज लिया हुआ था, लेकिन उसका ऋण समय पर नहीं चुका सका था. ऐसे में साहूकार ने क्रोधित होकर शिकारी को शिवमठ में बंदी बना दिया. संयोगवश उस दिन शिवरात्रि का दिन था. इस दिन साहूकार के घर में पूजा हो रही थी. शिकार बड़े ही ध्यान के साथ ये धार्मिक बातें सुनता रहा. इतना ही नहीं, इस दिन उसने शिवरात्रि व्रत कथा भी सुनी.

शाम को शिकारी ने साहूकार से अगले दिन सारा ऋण चुकाने का वजन दिया और वहां से जंगल में शिकार के लिए निकल गया. लेकिन दिनभर बंदी गृह में रहने के कारण उसे बहुत तेज भूख-प्यास लगी थी. शिकार की तलाश में वह बहुत दूर तक चला गया. जगंल में रात हो जाने के कारण,वे वहीं रुक गया. एक बेल के पेड़ के ऊपर चढ़ कर रा बितने का इंतजार करने लगा.   

जिस पेड़ के ऊपर वे बैठा उस पेड़ के नीचे शिवलिंग था, जो कि बिल्व पत्र से पूरी तरह से ढका हुआ था. शिकारी ने पेड़ पर पड़ाव बनाते समय जो टहनियां तोड़ीं वे शिवलिंग पर गिरती चली गईं. इस प्रकार भूखे-प्यासे रहकर शिकारी का शिवरात्रि का व्रत हो गया और शिवलिंग पर अनजाने में ही सही बिल्व पत्र भी चढ़ गए. रात का एक पहर बीत चुका था. इस दौरान तवाब पर एक गर्भिणी हिरणी पानी पीने आई.  शिकारी मे जैसे ही उस पर तीर चलाना चाहा, वैसे ही हिरणी ने कहा कि मैं गर्भिणी हूं और शीघ्र ही प्रसव करूंगी. ऐसे में तुम दो जीवों को हत्या एक साथ करोगे, ये ठीक नहीं. मैं बच्चे को जन्म देकर शीघ्र ही तुम्हारे पास आ जाऊंगी, तुम तब मार लेना

 इस दौरान दौरान फिर से अनायास ही शिकारी से कुछ बिल्व पत्र शिवलिंग पर गिर गए. इस दौरान प्रथम पहर का पूजन भी शिकारी से संपन्न हो गया. थोड़ी देर के बाद एक और हिरमी वहां से निकली. हिरणी को देखकर शिकारी बहुत खुश हुआ. लेकिन वो हिरणी भी उसे बातों में उलझा कर निकल गई. दो बार शिकार के निकल जानें से शिकार चिंता में पड़ गया. रात का आखिरी पहर भी निकलने को था और शिकारी के धनुष से उस समय भी कुछ बिल्व पत्र शिवलिंग पर गिर गए. ऐसे में दूसरे पहर की पूजा भी संपन्न हुई.  

इसी तरह इसके बाद एक और हिरणी और उसके बच्चे वहां से गुजरे, लेकिन हिरणी की प्रार्थना पर शिकारी ने उसे भी जाने दिया. बिल्व के पेड़ पर बैठा शिकारी अनजाने में ही शिवलिंग पर पत्ते गिराए जा रहा था. पौ फटने को हुई. इस दौरान एक हृष्ट-पुष्ट मृग वहां से गुजर रहा था. शिकारी ने सोचा इसका शिकार वो जरूर करेगा. लेकिन मृग की बातों में आकर शिकारी के सामने पूरी रात का घटनाचक्र घूमने लगा. उसने मृग को सारी कथा सुनाई. मृग की बातों में आकर शिकारी ने उसे भी जाने दिया. प्रकार पूरा रात बीत गई. उपवास, रात्रि-जागरण तथा शिवलिंग पर बेलपत्र चढ़ने से अनजाने में ही पर शिवरात्रि की पूजा पूर्ण हुई और व्रत पूरा हो गया. अनजाने में की गई इस पूजा का परिणाम उसे जल्द मिल गया. इस दौरान शिकारी का हृदय निर्मल हो गया.अनजाने में शिवरात्रि के व्रत का पालन करने पर शिकारी को मोक्ष की प्राप्ति हुई. शिव पुराण के अनुसार मृत्यु काल में यमदूत जब उसे ले जाने आए तो शिवगणों ने उन्हें वापस भेज दिया और शिकारी को शिवलोक ले गए. भगवान शिव की कृपा से राजा चित्रभानु इस जन्म में अपने पिछले जन्म को याद रख पाए. इतना ही नहीं, महाशिवरात्रि के महत्व को जान कर उसका अगले जन्म में भी पालन कर पाए.

महाशिवरात्रि की कथा हिंदी में पीडीएफ (Mahashivratri Katha in Hindi PDF)

महाशिवरात्रि की कथा हिंदी पीडीएफ के रूप में प्राप्त करना चाहते हैं तो उसका लिंक हम आपको आर्टिकल में उपलब्ध करवाएंगे जिससे आप अपने मोबाइल में डाउनलोड कर सकते हैं।

Download PDF

What is the Difference Between Shivratri and Maha Shivratri?

शिवरात्रि और महाशिवरात्रि दोनों एक है कई लोगों को लगता है जो की बिल्कुल गलत है शिवरात्रि और महाशिवरात्रि  के बीच क्या अंतर है उसका विवरण नीचे दे रहे हैं |

शिवरात्रि

शास्त्रों में सोमवार और प्रदोष का दिन भगवान शिव की पूजा के लिए सर्वोत्तम माना गया है। हर माह कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को शिवरात्रि मनाई जाती है। इसे प्रदोष भी कहा जाता है. हिंदू कैलेंडर के अनुसार, बड़ी शिवरात्रि तब मनाई जाती है जब श्रावण माह में प्रदोष आता है। ऐसे में साल में 12 शिवरात्रि होती हैं. ऐसे में शिवरात्रि का त्योहार प्रत्येक सोमवार को मनाया जाता है

महाशिवरात्रि 

फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को आने वाली शिवरात्रि को महाशिवरात्रि कहा जाता है। यह दिन पूरे देश में धूमधाम से मनाया जाता है। शिव पुराण के अनुसार फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को महाशिवरात्रि कहा जाता है। महाशिवरात्रि का त्योहार भगवान शिव और देवी पार्वती के विवाह के उपलक्ष्य में मनाया जाता है। इसलिए शिव भक्त इस दिन को बहुत खास मानते हैं।

हम महाशिवरात्रि का व्रत क्यों रखते हैं? 

महाशिवरात्रि में व्रत रखने का विशेष महत्व हैं। महाशिवरात्रि के पूरे दिन और रात प्रार्थना, जप, ध्यान और उपवास करते हैं। महाशिवरात्रि का व्रत प्रार्थना की शक्ति बढ़ाने और पापों से मुक्ति के लिए किया जाता है। उपवास करने पर, आप दिव्य चेतना की शरण लेते हैं, आपका मन शांत केंद्रित हो जाता है इसके लाभ आपके शरीर में उपस्थित हानिकारक पदार्थ शरीर के बाहर निकल जाते हैं इससे आपको कई प्रकार के स्वास्थ संबंधित लाभ प्राप्त होते हैं। इसलिए महाशिवरात्रि व्रत रखने के पीछे धार्मिक और वैज्ञानिक दोनों प्रकार के कारण है ऐसे में हम सभी को महाशिवरात्रि का व्रत रखना चाहिए।

शिवरात्रि पर कितने घंटे का व्रत रखना चाहिए? For how Many hours should one Fast on Shivratri?

शिवरात्रि पर 24 घंटे का व्रत रखा जाता है  उसके अगले दिन व्रत का समापन किया जाता हैं।  इस दौरान जो भी शिवरात्रि संबंधित खाद्य सामग्री है इसका सेवन आप कर सकते हैं। 

महाशिवरात्रि पर व्रत रखने के नियम (Mahashivratri Fast Rules)

महा शिवरात्रि 2024: व्रत के दौरान करने योग्य बातें

  • .महा शिवरात्रि व्रत का संकल्प व्रत से एक दिन पहले किया जाता है। भक्त हथेली में थोड़े से चावल और पानी रखकर संकल्प ले सकते हैं।
  • व्रत वाले दिन सुबह जल्दी ब्रह्म मुहूर्त या सूर्योदय के आसपास उठें।
  • व्रत के दिन स्नान करके साफ कपड़े, विशेषकर सफेद, पहनने चाहिए।
  • इस व्रत को रखने वाले लोगों को दिन में कई बार ‘ओम नम: शिवाय’ का जाप करने की सलाह दी जाती है।
  • चूंकि शिवरात्रि पूजा रात में आयोजित की जाती है, इसलिए भक्तों को शिव पूजा करने से पहले शाम को दूसरा स्नान करना चाहिए। भक्त आमतौर पर स्नान करने के बाद अगले दिन व्रत तोड़ते हैं।
  • जो लोग कुछ स्वास्थ्य स्थितियों से पीड़ित हैं या दवा ले रहे हैं, उन्हें उपवास जारी रखने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए।
  • भगवान शिव के प्रसाद में दूध, धतूरे के फूल, बेलपत्र, चंदन का पेस्ट, दही, शहद, घी और चीनी शामिल 

महा शिवरात्रि 2024: व्रत के दौरान नहीं करने योग्य बातें

  • व्रत रखने वाले लोगों को चावल, गेहूं या दाल से बना खाना नहीं खाना चाहिए.
  • महा शिवरात्रि के दौरान भक्तों को मांसाहारी भोजन, लहसुन और प्याज का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • -शिवलिंग पर नारियल का पानी नहीं चढ़ाना चाहिए। केवल दूध, धतूरे का फूल, बेलपत्र, चंदन का लेप, दही, शहद, घी और चीनी ही चढ़ाना चाहिए।
  • यदि आप महा शिवरात्रि पर व्रत रखने की योजना बना रहे हैं तो ये कुछ उपवास करने योग्य बातें हैं और क्या नहीं, आपको याद रखनी चाहिए।

Conclusion:

उम्मीद करता हूं कि हमारे द्वारा लिखा गया आर्टिकल आपको पसंद आएगा आर्टिकल संबंधित अगर आपका कोई भी सुझाव या प्रश्न है तो आप हमारे कमेंट सेक्शन में जाकर पूछ सकते हैं उसका उत्तर हम आपको जरूर देंगे तब तक के लिए धन्यवाद और मिलते हैं अगले आर्टिकल में 

FAQ’s: Mahashivratri Vrat Katha 2024

Q 2024 में महाशिवरात्रि कब मनाया जाएगा?

Ans  2024 में महाशिवरात्रि 8 मार्च को मनाया जाएगा। 

Q. महाशिवरात्रि के दिन किसकी पूजा की जाती है?

Ans   महा शिवरात्रि पर लोग भगवान शिव और मां पार्वती की पूजा करते हैं।

Q. क्या महाशिवरात्रि एक राष्ट्रीय अवकाश है?

Ans. जी बिल्कुल नहीं महाशिवरात्रि एक ऑप्शनल हॉलीडे हैं। 

Q. महाशिवरात्रि कैसे मनाई जाती है?

ans.महा शिवरात्रि व्रत रखकर और भगवान शिव की पूजा करके मनाई जाती है। भक्त शिव मंदिरों में जाते हैं और पूरी रात जागकर भजन गाते हैं और अभिषेक करते हैं। 

Q. महा शिवरात्रि के दौरान खाए जाने वाले कुछ पारंपरिक खाद्य पदार्थ क्या हैं? 

Ans .महा शिवरात्रि के दौरान खाए जाने वाले कुछ पारंपरिक खाद्य पदार्थ आलू के व्यंजन, साबूदाना खिचड़ी, खीर और फल हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *