National Safety Council 2024: राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद क्या है? जाने इसकी इतिहास, भूमिका, उद्देश्य

National Safety Council 2024

National Safety Council 2024 : राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस प्रत्येक वर्ष 4 मार्च को मनाया जाता है, जो औद्योगिक सुरक्षा के महत्व के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद (एनएससी) की स्थापना 4 मार्च 1966 को की गई थी नेशनल सेफ्टी काउंसिल स्थापना का प्रमुख उद्देश्य दुर्घटनाओं को रोकने के लिए सुरक्षा के बारे में जागरूकता बढ़ाना है, राष्ट्रीय सुरक्षा  परिषद का प्रमुख काम देशभर में सुरक्षा के नियमों का पालन हो रहा है कि नहीं उसका निरीक्षण करना है  ताकि अनावश्यक दुर्घटना गतिविधियों को रोका जा सके। 4 मार्च को एनएससी ध्वजफहराकर और राष्ट्रीय सुरक्षा सप्ताह जागरूकता अभियान मनाया जाता हैं।  हालांकि राष्ट्रीय सुरक्षा सप्ताह तय करने का कोई निर्धारित नियम नहीं है, कुछ संगठन फरवरी में सुरक्षा अभियान शुरू करते हैं और 4 मार्च को एक मान्यता समारोह के साथ समाप्त करते हैं। वहीं, ज्यादातर संस्थाएं 4 मार्च से 10 मार्च  राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस सप्ताह का आयोजन किया जाता हैं। 

ऐसे में यदि आप भी इंटरनेट पर  National Safety Council of india | What is the role of National Safety Council?  What is the National Safety Council?  What are the objectives of National Safety Council of India | What is the history of the National Safety Council? National Safety Council services | National Safety Council activities | चीज अगर आप सर्च कर रहे हैं तो आप बिल्कुल सही आर्टिकल पर आ गए हैं। आज के लेख में National Safety Council के बारे में पूरी जानकारी आसान भाषा में आपको प्रदान करेंगे आर्टिकल को ध्यान से पढ़िए चलिए जानते हैं:- 

National Safety Council – Overview

आर्टिकल का प्रकारमहत्वपूर्ण दिन
आर्टिकल का नामNational Safety Council
साल कौन सा है2024
स्थापना कब हुई थी4 मार्च 1966
हेड क्वार्टर कहां पर हैमुंबई में

यह भी पढ़ें: विश्व श्रवण दिवस क्यों मनाया जाता है? जानें क्या है इसका इतिहास, महत्व,थीम

भारतीय राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद | National Safety Council of india

4 मार्च, 1966 को श्रम मंत्रालय, भारत सरकार (जीओआई) द्वारा राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद (एनएससी) की स्थापना की गई थी। यह एक शीर्ष गैर-लाभकारी  निकाय है, जो सोसायटी पंजीकरण अधिनियम, 1860 और बॉम्बे पब्लिक ट्रस्ट अधिनियम, 1950 के तहत पंजीकृत है। अपने उद्देश्य को पूरा करने के लिए एनएससी विभिन्न गतिविधियाँ संचालित करता है। इनमें विशेष प्रशिक्षण कार्यक्रमों/पाठ्यक्रमों, सम्मेलनों, सेमिनारों और कार्यशालाओं का आयोजन और संचालन शामिल है।  इसका हेड क्वार्टर मुंबई में है 4 मार्च को भारत में राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस मनाया जाता है ताकि लोगों को सुरक्षा के प्रति जागरूक किया जा सके।

राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद की क्या भूमिका है? What is the role of National Safety Council? 

भारत में राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद की भूमिका काफी महत्वपूर्ण है इसलिए 4 मार्च 1966 को, केंद्र सरकार के तहत श्रम और रोजगार मंत्रालय ने सड़क सुरक्षा, कार्यस्थल सुरक्षा, मानव स्वास्थ्य की सुरक्षा सहित सुरक्षा दिशानिर्देशों के बारे में जागरूकता बढ़ाने के उद्देश्य से, राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद स्थापना की गई थी 11 से 13 दिसंबर, 1965 को श्रम एवं रोजगार मंत्रालय ने पहली बार औद्योगिक सुरक्षा पर एक सम्मेलन का आयोजन किया। इस अवसर पर तत्कालीन राष्ट्रपति सर्वपल्ली राधाकृष्णन भी उपस्थित थे। सम्मेलन के बाद जहां राष्ट्रीय और राज्य स्तर पर सुरक्षा परिषद स्थापित किए गए थे ताकि स्टेट लेवल पर भी सुरक्षा संबंधित कई प्रकार के कार्यक्रम और सेमिनार आयोजित किया सके ताकि आम नागरिकों को सुरक्षा के प्रति जागरूक किया जा सके ताकि आपातकाल की स्थिति में नागरिक अपनी जान बचा सके।

राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद क्या है? | What is the National Safety Council? 

 राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद गैर-लाभकारी, स्व-वित्तपोषित निकाय है।राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद का गठन 4 मार्च 1966 को किया गया था। इसकी स्थापना राष्ट्रीय स्तर पर सुरक्षा, स्वास्थ्य और पर्यावरण  विकसित करने और बनाए रखने के लिए की गई थी।  राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद को भारत सरकार के श्रम मंत्रालय द्वारा स्थापित किया गया था।राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद, भारत (NSC) का मुख्यालय  मुंबई, महाराष्ट्र में स्थित है। इसे  सोसायटी पंजीकरण अधिनियम, 1860 और  बॉम्बे पब्लिक ट्रस्ट अधिनियम, 1950 के तहत पंजीकृत किया गया था।

भारतीय राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के उद्देश्य क्या हैं? What are the objectives of National Safety Council of India?

  • इस अभियान का उद्देश्य सुरक्षा, स्वास्थ्य और पर्यावरण (एसएचई) अभियान को  देश के विभिन्न हिस्सों तक ले जाना है।
  • विभिन्न औद्योगिक क्षेत्रों में विभिन्न स्तरों पर  सुरक्षा संबंधी सेमिनार का आयोजन करना
  • SHE गतिविधियों में अपने कर्मचारियों को शामिल करके सुरक्षा से जुड़े नियम और सुरक्षा मानक के बारे में जानकारी उपलब्ध करवाना
  • भारत के कार्य स्थल पर सुरक्षा मानकों का निरीक्षण करना ताकि अगर सुरक्षा संबंधित कोई भी त्रुटि हो तो इसका प्रभावी समाधान करना  भारतीय राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद का प्रमुख उद्देश्य हैं।

यह भी पढ़ें: राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस पर निबंध

राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद का इतिहास क्या है? What is the History of National Safety Council?

राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस  इतिहास काफी पुराना है जब इसे पहली बार 11-13 दिसंबर, 1965 को दिल्ली में श्रम और रोजगार मंत्रालय द्वारा राष्ट्रपति सर्वपल्ली राधाकृष्णन की उपस्थिति में आयोजित किया गया था। इस दौरान, फरवरी 1966 में स्थायी श्रम समिति के 24वें सत्र में एक राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद बनाने के विचार को मंजूरी दी गई। इसके बाद 4 मार्च, 1966 को भारत के श्रम मंत्रालय द्वारा सोसायटी पंजीकरण अधिनियम का उपयोग करके राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद का गठन किया गया। इसके अलावा, 1950 के बॉम्बे पब्लिक ट्रस्ट अधिनियम के माध्यम से, राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद को आधिकारिक तौर पर मान्यता दी गई थी। इस प्रकार 4 मार्च 1972 को राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद की स्थापना वर्षगांठ मनाने के लिए, राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस कार्यक्रम की स्थापना की गई और हर साल इस दिन मनाया जाता है.!

राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद सेवाएँ | National Safety Council services

राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के द्वारा कई प्रकार के सर्विस प्रदान किए जाते हैं जिसका विवरण हम आपको नीचे दे रहे हैं-

  • अभियान
  • अग्नि सुरक्षा, विद्युत सुरक्षा, निर्माण सुरक्षा सहित सुरक्षा ऑडिट
  • जोखिम आकलन
  • HAZOP अध्ययन
  • आपातकालीन प्रबंधन योजना
  • एनएससीआई सुरक्षा रेटिंग प्रणाली

राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद की गतिविधियाँ | National Safety Council activities

  • एकांकी नाटक/नाटक, गीतों का आयोजन करना और बच्चों को उनमें भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करना।
  • सुरक्षा उपायों संबंधित सेमिनार, सेमिनार, चर्चा और बहस का आयोजन करना।
  • सुरक्षा प्रतियोगिताओं का आयोजन – निबंध, नारे, पोस्टर, हाउसकीपिंग, सुरक्षा प्रदर्शन, आदि।
  • आपातकालीन अभ्यास जुड़े अभियान और सेमिनार आयोजित किए जाते हैं ताकि आपातकालीन स्थिति में आप सुरक्षा मानकों का अनुसरण कर कर अपनी जान बचा सके
  • सुरक्षा प्रोटोकॉल के पालन के महत्व पर अपने बहुमूल्य ज्ञान को साझा करने के लिए  सुरक्षा के क्षेत्र में काम करने वाले विशिष्ट अतिथि गण को आमंत्रित किया जाता है
  • इसके अलावा सुरक्षा के क्षेत्र में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले लोगों को राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के द्वारा पुरस्कार भी दिया जाता हैं।

भारतीय राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद की स्थापना किसने की? Who established National Safety Council of India?

भारतीय राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद की स्थापना भारतीय श्रम रोजगार मंत्रालय के द्वारा 4 मार्च 1966 को किया गया था। इसके बाद 4 मार्च भारत में राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस के रूप में मनाया जाता हैं।

भारतीय राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के तथ्य | Facts of National Safety Council of India

  • फरवरी, 1966 में स्थायी श्रम समिति के 24वें सत्र में राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद (एनएससी) के गठन से संबंधित प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया गया था उसके बाद एनएससी की स्थापना 4 मार्च, 1966 को भारत सरकार के श्रम मंत्रालय द्वारा की गई थी।
  • इसे सोसायटी पंजीकरण अधिनियम, 1860 के तहत एक सोसायटी के रूप में और बाद में बॉम्बे पब्लिक ट्रस्ट अधिनियम, 1950 के तहत एक सार्वजनिक ट्रस्ट के रूप में पंजीकृत किया गया था।
  • राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस पहली बार 4 मार्च, 1972 को  मनाया जाता हैं। 
  • राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस सुरक्षा और स्वच्छता उपायों के महत्व को उजागर करने के लिए मनाया जाता हैं। 
  • राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद भारत में घरेलू सुरक्षा, सड़क सुरक्षा, पर्यावरण सुरक्षा और यात्रा  सुरक्षा पर लगातार काम कर रही है ताकि  दुर्घटना के मामलों को रोका जा सके।
  • राष्ट्रीय राष्ट्रीय और राज्य सरकारें पूरे देश में राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस मनाती हैं।
  • राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस के दिन सुरक्षा संबंधित प्रशिक्षण, कार्यशालाओं और सेमिनारों आयोजित किए जाते हैं।

Conclusion

उम्मीद करता हूं कि हमारे द्वारा लिखा गया आर्टिकल आपको पसंद आएगा आर्टिकल संबंधित अगर आपका कोई भी सुझाव या प्रश्न है तो आप हमारे कमेंट सेक्शन में जाकर पूछ सकते हैं उसका उत्तर हम आपको जरूर देंगे तब तक के लिए धन्यवाद और मिलते हैं अगले आर्टिकल में

FAQ’s: National Safety Council 2024

Q. राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस क्यों मनाया जाता है?

राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस प्रत्येक वर्ष 4 मार्च को मनाया जाता है, जो औद्योगिक सुरक्षा के महत्व के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद (एनएससी) स्थापना की गई थी।

Q. 4 मार्च राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस क्यों है?

Ans. भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद (एनएससी) की स्थापना के उपलक्ष्य में हर साल 4 मार्च को राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस (एनएसडी) मनाया जाता है।

Q. भारत में राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस की शुरुआत किसने की?

Ans.भारतीय राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद द्वारा 1971 से अपने स्थापना दिवस (4 मार्च)  देश में राष्ट्रीय सुरक्षा दिवस के रूप में मनाया इसका शुभारंभ किया था।

Q. सुरक्षा के 3 मुख्य बिंदु क्या हैं?

Ans.जब सुरक्षा की बात आती है तो जिस व्यक्ति को चोट लगने का खतरा है, उसे खतरे के बारे में पता होना चाहिए और खतरे को नियंत्रित करने और चोट को रोकने के लिए क्या किया जा सकता है। उसके बारे में अगर आपको जानकारी है तो आप आसानी से अपने आप को अनचाहे  घटना से बचा सकते हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *